ब्रेकिंग: NDTV और राहुल गाँधी ने फैलाई डोकलाम पर ये ख़बर, असलियत आपके होश उड़ा देगी

NDTV समाचार चैनल नहीं है, ये केवल वो चीज़ें ही ट्विस्ट करके लोगों के सामने परोसता है जिस से हिन्दू और भारत विरोध हो सके.

पिछले दिनों भारत ने डोकलाम जो की असल में भूटान का इलाका है वहां से चीन को पीछे जाने पर मजबूर कर दिया, पूरी दुनिया में भारत की छवि भी मजबूत हुई, मोदी सरकार चीन पर दबाव बनाने में सफल रही.

भारत में भी लोगों का भरोसा मोदी सरकार पर और बढ़ा क्यूंकि ये अपने आप में पहला मौका था जब भारत ने चीन को पटखनी दी थी.

NDTV और ये सेक्युलर और वामपंथी तत्त्व इस से भड़के हुए थे और इसी कारण पिछले दो दिनों से कई वामपंथी विशेषकर NDTV एक फेक न्यूज़ फैला रहे हैं.

बताया जा रहा है की, चीन ने डोकलाम में 500 सैनिक घुसा दिए हैं और साथ ही रोड का निर्माण कर लिया है.

अब राहुल गाँधी ने इसी ख़बर का सहारा लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधा और कहा की मोदी तुम छाती पीटते रहते हो, वहां चीन ने डोकलाम में सैनिक भी घुसाएँ और सड़क भी बनायीं

इससे पहले की आप भ्रमित हों, राहुल गाँधी और NDTV की सच्चाई हम आपको बता देते हैं.

असल में डोकलाम में वही स्थिति है जो पहले थी, चीन ने वहां कोई सैनिक नहीं घुसाए हैं और न ही सड़क बनायीं है

असल में चीन ने चुम्बी वैली में सड़क बनायी है वो भी एक कच्ची सड़क, ये इलाका 50 सालों से चीन के ही पास है और चीन अपने इलाके में सड़क बना रहा है न की डोकलाम में, हाँ ये इलाका डोकलाम और भारतीय सीमा के पास ज़रूर है पर ये चीन का इलाका है.

डोकलाम से सटे चुम्बी घाटी में चीनी सैनिक अभी भी मौजूद हैं। एयर चीफ मार्शल, बीएस धनोआ ने गुरुवार को इस मामले की जानकारी देते हुए बताया कि चीनी सैनिक अभी भी चुम्बी घाटी में मौजूद हैं। धनोआ ने साफ किया कि चीनी सैनिकों की मौजूदगी के बावजूद भी दोनों देशों की सेनाएं आमने-सामने नहीं हैं और उम्मीद है कि वो जल्द ही लौट जाएंगे।

बता दें कि चुम्बी घाटी दक्षिणी तिब्बत का इलाका है और यह भारत-चीन सीमा के बिल्कुल सटे है। यह इलाका भारत भूटान और तिब्बत को जोड़ने वाले इलाके में स्थित है। एयरफोर्स की सालाना प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि चुम्बी घाटी में चीनी सैनिक काफी दिनों से एक्सरसाइज कर रहे थे। उनकी एक्सरसाइज अब खत्म हो गई है ऐसे में उम्मीद है कि वो वापस लौट जाएंगे। उन्होंने बताया कि दोनों देशों की सेनाएं आमने-सामने नहीं है। उम्मीद है इस मामले का शांतिपूर्ण तरीके से कोई हल निकाल लिया जाएगा जो दोनों देशों के हित में होगा।

बता दें कि चीन और भारत के बीच डोकलाम में 72 दिन लंबा विवाद चला था। 16 जून को चीन के सैनिकों ने भूटान के डोकलाम क्षेत्र में सड़क का निर्माण करना शुरू कर दिया था, जिसके बाद इंडियन आर्मी ने वहां पहुंचकर इस कार्य को रूकवाया था। डोकलाम में इंडियन आर्मी की दखलअंदाजी के बाद दोनों देशों के बीच विवाद खड़ा हो गया। इंडियन आर्मी जिस तरह से डोकलाम में खड़ी थी, इसमें कोई संदेह नहीं है कि भारत फ्रंटफुट पर था।

पर विडम्बना तो देखिये मोदी विरोध में NDTV और राहुल गाँधी ने चुम्बी वैली को डोकलाम बना दिया ताकि मोदी सरकार पर सवाल उठाये जा सकें और मोदी सरकार कमज़ोर दिखाई पड़े.

आप सभी राष्ट्रवादी भाई बहनों से अनुरोध है की NDTV और राहुल गाँधी के द्वारा फैलाये जा रहे इस सफ़ेद झूठ की पोल खोलने में हमारी मदद करें और इस ख़बर को पढने के बाद तुरंत शेयर करके अपना योगदान दें.

जय हिन्द!

SHARE