पूर्व विदेश मंत्री और कांग्रेसी नटवर सिंह ने खोली इंदिरा गाँधी और नेहरु खानदान की सबसे बड़ी पोल

natwar

सबसे पहले आप यह जान ले कि नटवर सिंह इंदिरा गाँधी के समय प्रशासनिक अधिकारी थे. फिर वे कांग्रेस में शामिल हुए और विदेश मंत्री भी बनाये गए.

पिछली नालायक सरकार ने इंदिरा गाँधी को एक बहुत ही जिम्मेदार , ताकतवर और राष्ट्रभक्त महिला बताया है और आप भी इंदिरा को आयरन लेडी समझते हैं चलिए इसकी कुछ कडवी हकीकत से मैं भी आज आपको रूबरू करवाता हूँ !!!

इंदिरा प्रियदर्शिनी ने नेहरू राजवंश को अनैतिकता की नयी ऊँचाई पर पहुचाया. बौद्धिक इंदिरा को ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में भर्ती कराया गया था लेकिन वहाँ से जल्दी ही पढाई में खराब प्रदर्शन के कारण बाहर निकाल दी गयी. उसके बाद उनको शांतिनिकेतन विश्वविद्यालय में भर्ती कराया गया था, लेकिन गुरुदेव रवीन्द्रनाथ टैगोर ने उन्हें उसके दुराचरण के लिए बाहर कर दिया. शान्तिनिकेतन से बाहर निकाल जाने के बाद इंदिरा अकेली हो गयी. राजनीतिज्ञ के रूप में पिता राजनीति के साथ व्यस्त था और मां तपेदिक के कारण स्विट्जरलैंड में मर रही थी. उसके इस अकेलेपन का फायदा फ़िरोज़ खान नाम के व्यापारी ने उठाया. 

अगले पेज पर पढ़ें: कैसे हुई इंदिरा गाँधी और फ़िरोज़ खान की शादी? एक मुस्लिम को अपना दामाद बनाने के लिए नेहरु ने क्या क्या पापड़ बेले? कैसे हिन्दुस्तान आज भी मूर्ख बन रहा है???

चौथे पेज पर जानिये: पूर्व विदेश मंत्री और कांग्रेसी नटवर सिंह ने इंदिरा गाँधी का वो कौन सा राज़ खोला? क्या है इंदिरा गाँधी और बाबर का रिश्ता??? आँखे खोलने वाला सच…

1
2
3
4
5
6
7
SHARE