दुश्मनों को धूल चटाने के लिए जल्द तैयार होगा ‘सुपर सुखोई’ विमान

नई दिल्ली: भारतीय वायुसेना के बेड़े में अब जल्द ही ‘सुपर सुखोई’ शामिल होने वाला है, जो दुश्मनों को धूल चटाने के लिए काफी अहम साबित होगा। भारत रूस के साथ इस रुके हुए प्रोजेक्ट पर बातचीत आगे बढ़ाने की तैयारी में है। इसके तहत भारत 5वीं जनरेशन के लिए लड़ाकू विमानों और सुखोई जेट (30MKI) को सुपर सुखोई में बदलने के लिए रूस से समझौता करेगा।दूसरी तरफ भारत और फ्रांस के बीच अब जल्द ही गोलीबारी करने वाले 36 जेट के लिए करीब 7.8 बिलियन यूरो की डील करने जा रहा है, लेकिन रक्षा मंत्रालय का मानना है कि देश की अभेद सुरक्षा के लिए 36 लड़ाकू विमान काफी नहीं हैं। भारतीय वायुसेना के पास अभी 33 लड़ाकू विमान हैं, जबकि इनमें से 11 बहुत पुराने हो चुके हैं। वहीं, मिग-21 और मिग-27 भी अब दस्ते से रिटायर होने के कगार पर हैं।भारत-रूस मिलकर करेंगे काम
रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने बताया कि देश के लिए सुखोई की उपयोगिता 60 फीसदी तक बढ़ गई है, जबकि यह पहले 46 फीसदी ही थी। उन्होंने कहा, हमारा लक्ष्य इसकी उपयोगिता को 75 फीसदी तक करना है। सुखोई को बेहतर बनाने के लिए रूस, हिंदुस्तान एरोनॉटिक्स और भारतीय वायुसेना मिलकर काम करेंगे। सभी मिलकर सुपर सुखोई बनाएंगे। सुखोई के लिए तकनीकी जरूरतों को इस साल के अंत तक पूरा कर लिया जाएगा।

एक बार ये  सुखोई  की उड़ान का  ये जबरदस्त विडियो देखें की आखिर क्यों सुखोई के नाम  से ही पाकिस्तान की रूह कांपती है ?

Click Next to know

Prev1 of 2Next

SOURCEpunjabKesri
SHARE