Mysterious: This Giant Chess Board in Nagaland is from the Mahabharata era

dimapur chess gaden mahabharata

भारत की धरती को चमत्कार की धरती ऐसे ही नहीं कहा जाता. जहाँ भी नज़र डालो हर जगह आश्चर्य में डालने वाले विषय और जगहें मिल जाती हैं. अब नागालैंड के दीमापुर में स्तिथ इस वाटिका को ही देख लीजिये यहाँ पत्थर से बनी शतरंज की मोहरें यानि की गोटियां रखी हुई हैं जो की बहुत ही विशाल हैं और उनका वजन भी बहुत अधिक हैं। यहाँ के मूल निवासियों का कहना है की ये शतरंज की गोटियाँ महाभारत काल से हैं.

dimapur chess gaden mahabharata 2

यह भी कहा जाता है कि इस वाटिका में शतरंज की इन गोटियों से भीम और उनके पुत्र घटोत्कच शतरंज खेलते थे। इस जगह पांडवो ने अपने वनवास का काफी समय व्यतीत किया था।

अगले पेज पर पढ़िए: महाभारत और भीम से क्या संबंध है इस वाटिका का?

Click next to read: What is the relation between this vatika and Bheem of Mahabharatha?

Prev1 of 3Next

SHARE